Saturday, April 13, 2024
स्वास्थ्य

मैमोग्राफी और थर्मोग्राफी में क्या अंतर होता है? ब्रेस्ट हेल्थ के लिए क्या है बेहतर

स्तन में होने वाले परिवर्तन कई बार कैंसर के संकेत दिखा सकते हैं। महिलाओं को नियमित रूप से अपने स्तनों में होने वाले परिवर्तनों का ध्यान देना चाहिए। अगर इन परिवर्तनों के कारण महिलाएं रोजमर्रा के कामों में किसी प्रकार की असुविधा महसूस करती हैं, तो वे तुरंत एक चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए। कई बार देर करने से स्थिति गंभीर हो सकती है। महिलाओं के स्तनों में होने वाले परिवर्तनों पर डॉक्टर मामोग्राफी और थर्मोग्राफी करने की सलाह देते हैं। ये दोनों परीक्षण ब्रेस्ट कैंसर के परिवर्तनों की जाँच के लिए किए जाते हैं। महिलाएं विशेषज्ञ डॉक्टर विभा बंसल से जान सकती हैं कि मामोग्राफी और थर्मोग्राफी में क्या अंतर होता है और ब्रेस्ट कैंसर में इनका क्या महत्व होता है।

मैमोग्राफी क्या है? – What is Mammography Screening in Hindi

मैमोग्राफी एक चिकित्सा प्रक्रिया है जो महिलाओं के स्तनों की छवियाँ बनाने के लिए किया जाता है, और यह ब्रेस्ट कैंसर की जांच में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। मैमोग्राफी में स्तन को एक विशेष छवि या रेंटगन छवि के रूप में दर्शाया जाता है, जिसके बाद डॉक्टर इस छवि की अधिक गहरी जांच करके किसी भी संदेहित या असामान्य परिवर्तन की जांच कर सकते हैं, जैसे कि लक्षण, गांठें, या किसी प्रकार की ब्रेस्ट कैंसर की संकेतों की खोज कर सकते हैं।

मैमोग्राफी साधारण रूप से स्तन के दो प्लेट्स के बीच स्थापित किए गए होते हैं, और फिर एक विशेष मैमोग्राफी मशीन द्वारा स्तन को दबाया जाता है ताकि उसकी छवियाँ बन सकें। इस प्रक्रिया के माध्यम से, चिकित्सक ब्रेस्ट के अंदर की संरचना को देखकर किसी भी संकेत को पकड़ सकते हैं और कैंसर की शुरुआती चरणों को पहचान सकते हैं।

मैमोग्राफी ब्रेस्ट कैंसर की जलबूज और समय पर जांच करने में मदद करती है, जिससे समय पर इलाज शुरू किया जा सकता है और रोग का सही उपचार किया जा सकता है।

थर्मोग्राफी क्या है? – What is Thermography In Hindi

थर्मोग्राफी एक चिकित्सा प्रक्रिया है जिसमें शरीर के विभिन्न भागों की तापमान और उनके तापीय परिवर्तनों को मापने के लिए इंफ्रारेड कैमरा उपयोग किया जाता है। थर्मोग्राफी का मुख्य उद्देश्य शरीर के विभिन्न भागों के तापमान में किसी असामान्य परिवर्तन को पकड़ना होता है, जिसमें तापमान में असामान्य वृद्धि या कमी शामिल हो सकती है।

थर्मोग्राफी का उपयोग कई तरह की आवश्यकताओं के लिए किया जा सकता है, जैसे कि ब्रेस्ट कैंसर की जांच में, स्थिति की दिखावट के साथ ही तापमान की परिवर्तनों का अनुसरण करने के लिए और संदेहित क्षेत्रों के सुरक्षित रूप से मानक तरीके से जांच करने के लिए।

थर्मोग्राफी का एक महत्वपूर्ण लाभ यह है कि यह अक्सर अक्सर आसानी से और बिना शारीरिक स्पर्श के किया जा सकता है, और यह किसी ब्रेस्ट कैंसर के परिवर्तनों को पहचानने में मदद कर सकता है। थर्मोग्राफी का प्रयोग अन्य चिकित्सा जांचों के साथ मिलाकर किया जाता है, और यह डॉक्टर को ब्रेस्ट कैंसर जैसी संकेतों की जांच करने में एक साथ एक व्यक्ति की सामाग्री के स्तर पर तापमान का मूल्यांकन करने में मदद करता है।

मैमोग्राफ और थर्मोग्राफ में क्या अंतर होता है? – Difference Between Mammography And Thermography Screening In Hindi

मैमोग्राफी और थर्मोग्राफी दो विभिन्न तरीकों से स्तन कैंसर की जांच के लिए होती हैं, और उनमें कई महत्वपूर्ण अंतर होते हैं:

जांच के तत्व:

  • मैमोग्राफी: मैमोग्राफी में एक विशेष एक्स-रे मशीन का उपयोग करके स्तन के ऊपरी तंतु की छवियों को बनाने का काम किया जाता है. इन छवियाँ, जिन्हें मैमोग्राम कहा जाता है, सामान्यत: काले और सफेद में होती हैं और स्तन के ऊपरी तंतु में जैसे गठियों या सिस्ट्स की तरह संरचनात्मक असामान्यता की पहचान के लिए किया जाता है.
  • थर्मोग्राफी: विपरीत, थर्मोग्राफी मानव त्वचा की ऊपरी तापमान विविधताओं को मापती और रिकॉर्ड करती है. इसमें इंफ्रारेड कैमरा का उपयोग होता है जो गर्मी के पैटर्न को कैच करता है और यह एक्स-रे का उपयोग नहीं करता. इसका उद्देश्य ब्लड फ्लो के साथ गर्मी के पैटर्न में परिवर्तन की पहचान करना होता है और वास्क्युलैरिटी और उपचयिक गतिविधि के साथ जुड़े क्षेत्रों की पहचान कर सकता है.

दर्द और असुविधा:

  • मैमोग्राफी: मैमोग्राफी में स्तन की दबावन की प्रक्रिया होती है, जिससे कुछ महिलाओं के लिए परीक्षण के दौरान थोड़ी असुविधा या दर्द हो सकता है. यह दबावन को तय करने के लिए आवश्यक होता है ताकि स्पष्ट एक्स-रे छवियाँ प्राप्त हो सकें.
  • थर्मोग्राफी: थर्मोग्राफी एक गैर-उत्तेजन प्रक्रिया होती है जिसमें स्तन को दबाया नहीं जाता है और स्तन के साथ किसी भी शारीरिक संपर्क की आवश्यकता नहीं होती है. इसे सामान्यत: दर्द रहित और सुविधाजनक माना जाता है.

रेडिएशन प्रक्षेपण:

  • मैमोग्राफी: मैमोग्राफी एक्स-रे (आयोनाइजिंग विकिरण) का उपयोग करती है, जिससे प्राप्त छवियाँ ब्रेस्ट ऊतक को छवियों के दौरान थोड़ी सी विकिरण का एक छोटा हिस्सा प्रकट होता है.
  • थर्मोग्राफी: थर्मोग्राफी आयोनाइजिंग विकिरण का उपयोग नहीं करती है. यह पूरी तरह से विकिरण मुक्त है और इसे बार-बार जाँचने के लिए एक सुरक्षित विकल्प बनाता है.

पहचान प्रवृत्ति:

  • मैमोग्राफी: मैमोग्राफी संरचनात्मक असामान्यताओं की पहचान के लिए अत्यधिक प्रभावी है और यह कई वर्षों से स्तन कैंसर की जाँच के मानक रूप में है. यह स्तन ऊतक में कैल्सीफिकेशन और गठियों की पहचान कर सकती है.
  • थर्मोग्राफी: थर्मोग्राफी में स्तन के गर्मी के पैटर्न में परिवर्तनों की पहचान कर सकती है, लेकिन यह निश्चित रूप से आनैटॉमिकल विवरण की पहचान करने में इतनी प्रभावी नहीं है. यह आमतौर पर एक सहायक या पूरक जांच प्रक्रिया के रूप में मानी जाती है, एकमात्र निर्देशक उपकरण के रूप में नहीं.

आयु और उपयोगिता:

  • मैमोग्राफी: मैमोग्राफी को ब्रेस्ट कैंसर की जांच के लिए व्यापक रूप से सिफारिश की जाती है, खासकर 40 वर्ष और उससे अधिक आयु की महिलाओं के लिए, क्योंकि यह आरंभिक चरण के स्तन कैंसर की पहचान में विशेष रूप से प्रभावी होती है.
  • थर्मोग्राफी: थर्मोग्राफी को अतिरिक्त जांच उपकरण के रूप में उपयोग किया जा सकता है और यह आमतौर पर कैंसर की पहचान के लिए प्रमुख प्रक्रिया नहीं होती है. यह कई स्वास्थ्य संकटों वाली युवा महिलाओं या उन महिलाओं के लिए समय-समय पर अधिक सलाह दी जाती है जिनमें कुछ खास स्वास्थ्य सम्बंधित चिंताएँ हैं.

डॉक्टर के अनुसार, हर महिला के स्तन में होने वाले बदलाव व्यक्तिगत हो सकते हैं, और वे अलग-अलग हो सकते हैं। ऐसे में डॉक्टर स्तिथि की गंभीरता और कैंसर के प्रारंभिक लक्षणों की पहचान करके महिलाओं को अलग-अलग परीक्षण की सलाह दे सकते हैं। ये दोनों परीक्षण सटीक और प्रभावी होते हैं, जो आपको समय पर कैंसर की पहचान में मदद करते हैं। इससे महिलाओं के रोग का सही इलाज शुरू किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *