Saturday, February 24, 2024
पॉलिटिक्सराष्ट्रीय

लोकसभा से निष्कासित होंगी महुआ मोइत्रा! TMC सांसद के खिलाफ एथिक्स कमेटी में प्रस्ताव पास

टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा के खिलाफ एथिक्स कमेटी में प्रस्ताव पास हो गया है। रिपोर्ट के पक्ष में 6 और खिलाफ में 4 वोट हुए। इससे पहले एथिक्स कमेटी में महुआ मोइत्रा के खिलाफ रिपोर्ट पेश की गई थी, और कांग्रेस सांसद ने रिपोर्ट के पक्ष में वोट दिया। 

पैसे लेकर सवाल पूछने के मामले में टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा के लिए मुश्किलें बढ़ रही हैं। एथिक्स कमेटी ने तृणमूल सांसद महुआ मोइत्रा के खिलाफ प्रस्ताव को मान्यता प्रदान कर दी है। महुआ मोइत्रा के खिलाफ प्रस्ताव पर पक्ष में छह सांसदों ने वोट किया, जबकि उसके खिलाफ चार सदस्यों ने विपक्ष में वोट दिया। इसमें धन्यवाद की जा सकती है कि कांग्रेस सांसद परनीत कौर ने भी प्रस्ताव के पक्ष में वोट दिया। कमेटी ने अपने प्रस्ताव में महुआ को सांसद के रूप में निष्कासित करने की सिफारिश की है।

बैठक के बाद सोनकर ने कहा कि समिति के छह सदस्यों ने रिपोर्ट को स्वीकार करने का समर्थन किया और चार ने इसका विरोध किया। सूत्रों के अनुसार, समिति ने मोइत्रा को लोकसभा से निष्कासित करने की सिफारिश की है। अब रिपोर्ट की आगे की कार्रवाई के लिए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को भेजी जाएगी। इससे पहले मीडिया रिपोर्ट के हवाले से कहा गया था कि मोइत्रा के खिलाफ लगे ‘रिश्वत लेकर प्रश्न पूछने संबंधी आरोपों की जांच कर रही लोकसभा की आचार समिति राष्ट्रीय सुरक्षा पर ‘अनैतिक आचरण का असर पड़ने के आधार पर उन्हें संसद के निचले सदन से निष्कासित करने की सिफारिश कर सकती है।

रिपोर्ट में बताया गया था कि मसौदा रिपोर्ट में मोइत्रा के आचरण की निंदा की गई है। इसे ‘अत्यधिक आपत्तिजनक, अनैतिक, जघन्य और आपराधिक’ बताया गया है। साथ ही सरकार से मामले में समयबद्ध कानूनी और संस्थागत जांच का भी आह्वान किया गया है। एथिक्स कमेटी में कुल 15 सदस्य हैं। समिति में बीजेपी के सात, कांग्रेस के तीन और बसपा, शिवसेना, YSR कांग्रेस पार्टी, सीपीएम और जदयू के एक-एक सदस्य शामिल हैं।

भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मोइत्रा के खिलाफ शिकायत की थी। उन्होंने मोइत्रा पर उपहार के बदले व्यवसायी दर्शन हीरानंदानी के इशारे पर अडाणी समूह को निशाना बनाने के लिए लोकसभा में सवाल पूछने का आरोप लगाया था। इससे पहले 2 नवंबर को समिति की बैठक में मौजूद सभी पांच विपक्षी सदस्य यह आरोप लगाते हुए बैठक से बाहर चले गए थे कि सोनकर ने मोइत्रा की यात्रा, होटल में ठहरने और टेलीफोन पर बात करने के संबंध में उनसे व्यक्तिगत एवं अशोभनीय प्रश्न पूछे थे।

मोइत्रा ने स्वीकार किया है कि हीरानंदानी ने उनके लॉगिन का उपयोग किया। हालांकि, उन्होंने किसी तरह के आर्थिक लाभ हासिल करने के आरोप खारिज किए हैं। टीएमसी सांसद का कहना है कि अधिकतर सांसद अपने लॉगिन का विवरण दूसरों के साथ साझा करते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *